हमे सपने क्यों आते है


हमे सपने क्यों आते है

हमे सपने क्यों आते है

सपने आने का कारण दोस्तों सपने हम सभी को आते हैं कुछ व्यक्ति सपने याद रख पाते हैं और कुछ भुला देते हैं यह कुछ को तो यह याद भी नहीं होता कि उन्होंने रात को सोते हुए कोई सपना देखा है लेकिन कभी आपने सोचा कि आखिर सपने क्यों आते हैं इसके पीछे का विज्ञान क्या कहता है क्योंकि मैं हमेशा चीजों के पीछे का विज्ञान लोगों को समझाने की कोशिश करता हूं तो यहां भी सपने क्यों आते हैं इस विज्ञान को समझने की आवश्यकता है|

हमे सपने क्यों आते है

 रिसर्च के दौरान ही पता चला है कि यदि किसी चीज को हम गहराई से सोचते हैं तो कहीं ना कहीं वह चीज हमारे अंतर्मन में बैठ जाती है और जब हम सोते हैं तो वह स्मृतियां सामने आती है और वह एक सपने के तौर पर हमें महसूस होती है लेकिन मूल बात यह है कि जो चीज हम देखते हैं जो चीज हम सुनते हैं जो चीज हम समझते हैं यह जो चीज हमें स्पर्श करते हैं सपनों का संबंध मात्र मात्र उन्हीं चीजों से होता है यह मूल रूप से व्यक्ति की मानसिक दशा पर निर्भर करता है किस वक्त कौन सा आएगा कैसा आएगा और उसका क्या स्वरूप होगा यदि एक छोटे से बच्चे की बात लेले जिसने अभी जन्म भी नहीं लिया है जो अभी अपनी माता के गर्भ में है आपको जानकर आश्चर्य होगा की वह बच्चा भी स्वप्न देखता है इसके अतिरिक्त जो एक अंधा व्यक्ति है वह व्यक्ति भी सपने देखता है लेकिन अंधे व्यक्ति के द्वारा देखे हुए स्वप्न में कोई चित्र नहीं होते हैं केवल आवाज होती हैं वही एक बहरा व्यक्ति जो जन्म से बहरा है जब वह व्यक्ति कोई स्वप्न देखता है तो उसके स्वप्न में कोई आवाज नहीं होती केवल चित्र होते हैं तो यहां पर वैज्ञानिक रूप से यह बात तो प्रमाणित होती है कि हमारी ज्ञानेंद्रियां हमारी इंद्रियां जिन चीजों को देखती हैं सुनती हैं समझती हैं महसूस करती हैं स्वप्न केवल उन्हीं चीजों से बनते हैं इसके अतिरिक्त और कोई भी चीज़ नहीं है स्वप्न के पीछे अब जिस विषय में हम आवश्यकता से अधिक सोचते हैं स्वप्न का मुख्य और सब्जेक्ट वही मुद्दा या वही वैसे होता है जैसे कि मैं उदाहरण के तौर पर कहता हूं मेरे एग्जाम आने वाले हैं मेरी परीक्षा होने वाली है तो मेरा पूरा ध्यान मेरी परीक्षा पर केंद्रित होगा तो संभव है कि मुझे मेरी परीक्षा से संबंधित स्वप्न आए मुझे किसी रॉकेट संबंधित सपने नहीं आएंगे या किसी ऐसे व्यक्ति से संबंधित स्वप्न नहीं आएंगे जिसके बारे में मैंने आज तक सोचा ही नहीं है तो तुम मैक्सिमम स्वप्न होते हैं वह व्यक्ति के अपने क्षेत्र से संबंधित ही होते हैं पर स्वप्नों के विषय में एक रोचक बात यह भी है किस वक्त कभी-कभी निराधार भी होते हैं हो सकता है आपने टेलीविजन में अमेरिका का कोई गार्डन दिखाओ तो संभव है कि हो सकता है आप स्वप्न में उस गार्डन में पहुंच जाओ लेकिन कभी-कभी ऐसे सहयोगी बनते हैं स्वप्न में कि वह पेड़ जो अमेरिका में पाया ही नहीं जाता है वह पेड़ असम के किसी पहाड़ी क्षेत्र में पाया जाता है और आपने वह पेड़ पहले कभी देख रखा है तो स्वप्न में अमेरिका में जो आपने गार्डन देखा है उस गार्डन में वह पेड़ आपको दिख जाए या आपके रामू काका जो आपके गांव में रहते हैं जो कभी अमेरिका गए ही नहीं उस गार्डन में खड़े हुए आपको वह दिख जाएं जो सपनों के विषय में यह भी है कि वह अति संयुक्ति भी होते हैं आप किस तारीख स्मृतियां आपकी सारी जानकारियां आपके दिमाग में स्थित चित्र आवाज है आपस में मिश्रित होकर कुछ ऐसा संयोग बना देती हैं जिनका वास्तविकता से कोई संबंध ही समझ में नहीं आता है तो यह थी हुई स्वप्न की बात लेकिन सपने क्यों आते हैं इसके पीछे मूल कारण यही है आपकी मानसिक स्थिति और हमारे दिमाग में स्थित न्यूरॉन्स की संरचना इसके विषय में कुछ सीमित ही जानकारी उपलब्ध है जो जानकारियां थी मैंने आपको देने की कोशिश की स्वप्न विज्ञान के ऊपर लगातार देश-विदेश में रिसर्च चल रही है खोजें चल रही है जैसी कोई नई जानकारियां दुनिया के सामने आएंगी मैं कोशिश करूंगा कि अपने इस वेबसाइट के जरिए मैं आप लोगों तक वह पहुंचा सकते हैं आज के लिए दोस्तों बस इतना ही यदि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो फिर आएगा इसी ब्लॉक में और अपने दोस्तों को भी बताइए ताकि वह भी ऐसी रोचक जानकारियां प्राप्त कर सकें
 धन्यवाद

0 comments:

Post a Comment

loading...

Popular Posts